वो ‎माँ‬ ही है, जो धूप में भी छाँव जैसी है


रुके तो चाँद जैसी है, चले तो हवाओं जैसी है,
वो ‎माँ‬ ही है, जो धूप में भी छाँव जैसी है

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *