शुभ प्रभात


हर पतंग जानती है,
अंत में कचरे में जाना है,
लेकिन उसके पहले हमें आसमान
छूकर दिखाना है….।

” जिंदगी भी यही चाहती है “

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *